page contents

Places to visit near somnath – अगर आप सोमनाथ जाने का सोच रहे हो तो ये ब्लॉग आप को सोमनाथ टेम्पल टाइमिंग और सोमनाथ के नजदीकी घूमने की जगहों के बारे मैं जानकारी देगा।

पुराणों  के अनुसार सोमनाथ भगवान शंकर का पहला ज्योतिर्लिंग है जिसे चंद्र देव ने खुद अपने हाथों से बनाया था ऐसा माना जाता है।

यहाँ सोमनाथ मै सोमनाथ मंदिर के आलावा भी बहोत सारी पौराणिक जगह है जिसे आप देख सकते है और उस जगह का आनंद उठा सकते है।

तो आइये आज हम ऐसी ही कुछ जगहों के बारे में बात करते है।

Places to visit near somnath

1. सोमनाथ मंदिर।

2. प्रभास पाटन म्यूजियम।

3. लक्ष्मी नारायण टेम्पल।

4. सोमनाथ बीच।

5. सूर्य मंदिर

6. त्रिवेणी संगम।

7. पांच पांडव गुफा।

8. हिंगलाज माता गुफा। 

9. परशुरामजी टेम्पल।

10. भालका तीर्थ।

11. प्राची।

Places to visit near somnath

सोमनाथ दर्शन कैसे करें ?

सोमनाथ दर्शन के दो तरीके है।

1. अगर आप के पास प्राइवेट वेहिकल है तो आप निचे समजाये गए रास्ते से आप सभी स्थलों पर क्वालिटी समय बिता सकते है।

या आप प्राइवेट कार हायर करके भी सोमनाथ दर्शन कर सकते है लेकिन पैसो के मामले में वो थोड़ा सा महँगा पड़ेगा।

2. सोमनाथ से सोमनाथ दर्शन के लिए दिन में दो बार बस चलती है

एक सुबह 8 बजे के करीब और दूसरी दोपहर 2 बजे के करीब जो आप को सोमनाथ के सारे दर्शनीय स्थलों पर ले जाएगी।

सोमनाथ टेम्पल..

Places to visit near somnath

 Photography Attribution : Somnath Temple_Kuldeep S 

सोमनाथ मंदिर भारत के पश्चिमी तट पर सौराष्ट्र के वेरावल के प्रभास पाटन में स्थित है। भगवान शिव के कुल 12 ज्योतिर्लिंग है जिसमे से गुजरात में कुल 2 ज्योतिर्लिंग स्थित है।

पहला ज्योतिर्लिंग यहाँ सोमनाथ में स्थापित है और दूसरा ज्योतिर्लिंग द्वारका के पास नागेश्वर में स्थित है जो पुराणों के अनुसार 10 वे नंबर का है।

सोमनाथ ज्योतिर्लिंग और नागेश्वर ज्योतिर्लिंग के ऊपर मैंने दूसरा ब्लॉग लिखा हुवा है जिसके बारे मै मैंने विस्तार पूर्वक बात की है जिसकी लिंक मैंने निचे दी हुवी है आप उसे भी पढ़ सकते हो।

ज्यादा पढ़ें : सोमनाथ ज्योतिर्लिंग

ज्यादा पढ़ें : नागेश्वर ज्योतिर्लिंग

Somnath Temple- दर्शन के समय..

सुबह 6 बजे से साम को 9 बजे।

आरती के समय : सुबह 6 बजे, दोपहर को 12 बजे और शाम को 7 बजे।

जय सोमनाथ साउंड एंड लाइट शॉ : शाम को 8 बजे से 9 बजे।

लगभग एक घंटे का शो,टिकट की कीमत 25 रुपये प्रति सिर और आधा टिकट 15 /- रुपये है। 

यह शो पौराणिक कहानी और स्थानों के महत्व के बारे में बताता है।

यह प्रवासी तीर्थ के बारे में बताता है जहां भगवान कृष्ण अपना नश्वर शरीर छोड़कर स्वर्ग लौट गए।

यह मंदिर मंदिर के सभी कोनों से विस्तृत सुरक्षा व्यवस्था प्रदान करता है।

सभी भक्तों को मुख्य परिसर में प्रवेश करने से पहले सुरक्षा जांच से गुजारा जाता है।

मंदिर के अंदर मोबाइल,कैमरा और इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस मान्य नहीं।

सोमनाथ कैसे पहुंचे ?

सोमनाथ मंदिर कैसे पहुंचे? कहाँ पर रुके? मंदिर का पौराणिक महत्व मैंने विस्तार से इस निचे दी गयी लिंक में समझाया है आप उसे क्लिक करके पढ़ सकते हो।

ज्यादा पढ़ें somnath Jyotirling

350 मीटर / 5 मिनट्स चलके ..

प्रभास पाटन म्यूजियम..

प्रभास पाटन म्यूजियम सोमनाथ मुख्य मंदिर से बिलकुल पास मै महज 350 मीटर की दूरी पर ही आया हुवा है जहां आप पैदल चल कर जा सकते हो।

यहाँ पर 10,11 और 12 वि सदी के कई शिल्प संभाल कर रखें हुए है।

आज़ादी के बाद सोमनाथ मंदिर की पुनः प्रतिष्ठा के दौरान पुरे विश्व की 108 नदियों का जल भगवान शंकर के अभिषेक के लिए लाया गया था उसमे से कुछ नदियों के जल का संग्रह यहाँ आज भी मौजूद है।

सोमनाथ मंदिर को कई बार तोडा गया और कई बार बनाया गया।

जब 1950 में सोमनाथ मंदिर का पुनःनिर्माण शुरू हुआ तब खुदाई में कई पुरानी मूर्तियां और मंदिर के अवशेष बाहर आये इन सभी को प्रभास पतन म्यूजियम में रखा गया है।

Open : सोम,मंगल और गुरुवार से रविवार ( सुबह 10:30 से शाम 5:30 )

Closed : बुधवार

एंट्री फीस 5 रूपीस, फॉरेन विज़िटर 50 रूपीस, और अगर आप को फोटोग्राफी करनी हो तो कैमरा के 100 रूपीस अलग से चार्ज है।

850 मीटर / 10 मिनट्स चलके..

लक्ष्मी नारायण टेम्पल..

ये सोमनाथ में स्थित बहुत अच्छा विष्णु मंदिर है। जो भगवान विष्णु को समर्पित है।

यहाँ ध्यान करने और शांति पाने के लिए खुला स्थान है क्योंकि यह जगह काफी शांतिपूर्ण है। 

यह एक ऐसी जगह है जहाँ हम बहुत सारी तस्वीरों को अच्छी जानकारी के साथ लिख सकते हैं।

यहां मंदिर के अंदर कैमरों को भी ले जाने की अनुमति है।

फोटो प्रेमियों के लिए यह जगह फोटोजेनिक है,विभिन्न स्थान ऐसे हैं जहाँ से आप अच्छे फोटोग्राफ खींच सकते है।

मंदिर परिसर में ट्रस्ट धर्मशाला भी है।

Places to visit near Somnath

190 मीटर / 2 मिनट्स चलके..

सोमनाथ बीच ..

Places to visit near somnath

Photography Attribution : Somnath Beach_Dhimant2702

सोमनाथ मंदिर के साथ साथ सोमनाथ बीच भी बहोत ही सुन्दर है।

दर्शनीय स्थलों की यात्रा के बाद आप लोग यहाँ दो पल शांति से गुजर सकते है।

यहाँ समुद्र में नहाने की अनुमति तो है लेकिन यहाँ तट पे समुद्र का पानी ज्यादा तूफानी है इस लिए यहाँ नहाने की सलाह नहीं है।

आप यहाँ किनारे पर बैठ कर दो पल चैन से बिता सकते है।

यहाँ के मुख्य आकर्षण में कैमल और हॉर्स राइडिंग,क्वाड बाइकिंग और जीप बैलूनिंग और पेरा सेलिंग भी कभी कभी होती है।

यहाँ पर चौपाटी मै बहुत से फेरीवाले भी होते है जिससे आपको थोड़ा हल्का फुल्का नास्ता भी मिल जायेगा।

1 किमी / 10 मिनट्स चलके..

सूर्य मंदिर ..

सोमनाथ बीच से करीब 1 किमी की दूरी पर सूर्य मंदिर आया हुवा है।

यह मंदिर उसके नाम के अनुसार सूर्य देव और छाया देवी को समर्पित है।

माना जाता है की यह मंदिर पौराणिक काल का है और पांडव अपने अज्ञात वास के दरमियान यहाँ पर रहे थे और यहाँ पर ही सूर्य देव की आराधना करते थे।

वर्तमान मंदिर की संरचना 14 वि सताब्दी के आसपास हुई है और इसके आलावा इसका कोई जगह पर ऎतिहासिक उल्लेख नहीं मिलता है।

मंदिर की सभी दीवालों पर ब्रह्माजी,विष्णु भगवान,लक्ष्मीजी,सरस्वती माता,सीता माता और पार्वती माता की मूर्तियां और तस्वीरों को बड़े ही अच्छे तरीके से दर्शाया गया है।

साथ में देवी देवताओं के वाहन शेर,हाथी अनेक पक्षियों और जानवरों वगेरे की मूर्तियां भी बनाई हुवी है।

मंदिर के बिल्कुल करीब एक सूर्य कुंड है और कुछ कदम की दूरी पर हिंगलाज माता की गुफा आयी हुई है जहाँ पर हर रोज कई भक्त माता के दर्शन का लाभ लेते है।

मंदिर की स्थापना : महाभारत काल 

दर्शन समयसुबह 6:00 से शाम 9:30

प्रवेश : फ्री

650 मीटर / 5 मिनट्स चलके..

त्रिवेणी संगम..

Photography Attribution : Triveni Ghat

त्रिवेणी संगम सूर्य मंदिर से महज 600 मीटर की दूरी पर आया हुवा 3 नदियों का संगम स्थल है।

यहाँ पर उसके त्रिवेणी संगम नाम के अनुसार 3 नदियां हिरण,सरस्वती और कपिला एक दूसरे से मिलती है।

यहाँ पर घाट पर बहुत सरे कबूतरों का जमावड़ा रहता है जो आपसे बहुत ही नजदीक से उड़ते है।

उनको मानव समुदाय से डर नहीं लगता। वो आप के हाथों में भी दाना खाने आ जाते है। जिनको पक्षियों से प्रेम है उनके लिए ये जगह बहुत ही सुन्दर है।

Places to visit near Somnath

230 मीटर / 2 मिनट्स चलके..

पांच पांडव गुफा..

त्रिवेणी संगम से महज 250 मीटर की दूरी पर यह गुफा आयी हुई है जो पांडव भाइयों को समर्पित एक मंदिर बना हुवा है।

गुफा महाभारत काल की है और मंदिर का निर्माण करीब 1949 में स्वर्गीय बाबा नारायण दास द्वारा किया गया था।

यहाँ पर शंकर,राम-लक्ष्मण,सीता माता,हनुमानजी और दुर्गा माँ के भी अलग से मंदिर आये हुवे है।

इसके आलावा यहाँ पास में ही व्यास गुफा और नारायण मंदिर भी आये हुए है।

पौराणिक कथाओं के अनुसार पांडवों ने अपने अज्ञात वास दरमियान यहाँ पर शरण ली थी।

यह गुफाएं कई मुस्लिम हमलों की गवाही देती है जिन्होंने सोमनाथ मंदिर को कई बार अपने स्वार्थ के लिए नष्ट किया और मंदिर के समृद्ध खजाने को लूट लिया।

प्रवेश : फ्री

कुछ कदम चलके..

हिंगलाज माता गुफा ..

Places to visit near Somnath

Photography Attribution : Tourist PK Das

यहाँ पांच पांडव गुफा से कुछ कदम की दूरी पर ही हिंगलाज देवी की गुफा आयी हुवी है। जो पांडवों की कुलदेवी थी।

यह एक भूमिगत गुफा मंदिर है जो पांडवों की कुलदेवी हिंगलाज माता को समर्पित है।

यह गुफा लगभग 10 कदम गहरी है और एक बार में केवल एक व्यक्ति यहाँ रेंग कर जा सकता है।

लेकिन एक बार निचे पहुँच जाएं तो पार्थना करने हेतु बैठने के लिए पर्याप्त जगह है। 

जिसका अनुभव अलग ही है।

पौराणिक कथाओं में कहा गया है की हिंगलाज माता पांडवों की प्रार्थमिक देवी मतलब की कुलदेवी थी और महाभारत के युद्ध में विजय पाने के लिए पांडवों ने यहाँ पर हिंगलाज माता की पूजा और आराधना की थी।

प्रवेश : फ्री 

600 मीटर / 5 मिनट्स चलके..

परसुरामजी टेम्पल..

Places to visit near somnath

Photography Attribution : Tourist Kunal M.

परसुराम मंदिर सोमनाथ के दर्शनलिय स्थलों में से एक है।

यह मंदिर त्रिवेणी घाट के तट पर स्थित है।

लोकवायका ऐसी है की भगवन परसुराम ने क्षत्रियों को मारने के पाप से खुद को मुक्त करने के लिए यहाँ भगवान शंकर के आशीर्वाद पाके यहाँ तपस्या की थी।

यह मंदिर त्रिवेणी घाट से नजदीक मै है।

यहाँ पर संस्कार विधि होती है और लोग संस्कार विधि करने के बाद यहाँ पर पूजा करने के लिए आते है।

यह मंदिर भगवान परसुराम को समर्पित है और इस मंदिर में दो प्राचीन कुंड है और 3 रचना गर्भगृह,सभा मंडप और केंद्रीय मंडप बनी हुई है।

गर्भ गृह मै भगवन परसुराम की मूर्ति है और दोनों तरफ काला और कामके की मुर्तिया है।

यहाँ पर आगंतुकों को गर्भ गृह में प्रवेश करने की अनुमति नहीं है।हालाँकि,कहीं भी इसका उल्लेख करते हुए कोई संकेत नहीं दिया गया था।

इस मंदिर मै हनुमानजी और गणेशजी के भी विशेष स्थान है।

यहाँ पर परसुराम मंदिर के पीछे उनकी माताजी माँ रेणुकाजी को समर्पित एक मंदिर भी आया हुवा है।

प्रवेश : फ्री 

फोटोग्राफी : अमान्य 

Places to visit near Somnath

5.5 किमी / 15 मिनट्स वेहिकल से..

भालका तीर्थ..

Places to visit near somnath

भालका तीर्थ सोमनाथ ज्योतिर्लिंग से महज 4 किमी की दूरी पर आया हुवा है।

जो भगवान श्री कृष्ण के आखरी लम्हों की गवाही देता है।

इस तीर्थ के बारे में मैंने अलग से एक पोस्ट लिखी है जिसकी लिंक निचे दी हुई है जिसमे भालका तीर्थ का पौराणिक महत्व,देहोत्सर्ग तीर्थ,दर्शन का समय,रोड मैप वगैरे की जानकारी दी हुई है।

आप उस लिंक पर क्लिक करके भालका तीर्थ के बारे मै विस्तार से पढ़ सकेंगे।

ज्यादा पढ़ें : Bhalka Tirth

25 किमी / 50 मिनट्स वेहिकल से ..

प्राची ..

सोमनाथ से करीब २२ किमी की दूरी पर आया हुवा प्राची तीर्थ पौराणिक महत्वता के हिसाब से भारत के सबसे मुख्य पवित्र धामों में से एक है

क्यों की मृत्यु के बाद की जो अनुष्ठान विधि है वो यहीं से होती है

काशी से भी प्राची की महत्वता ज्यादा है और धार्मिक रूप से काशी के सामान ही यह स्थान महत्वपूर्ण है।

पौराणिक महत्व ..

कथाओं के मुताबिक भगवन कृष्ण जो यदुवंशी थे उन्होंने अपने पूर्वजों के अनुष्ठान इसी तीर्थ पर किया था जिसकी वजह से हिन्दू धर्म में प्राची तीर्थ की महत्वता बहोत ही ज्यादा है।

पौराणिक धारणा के अनुसार श्री कृष्ण जब पांडवों को ढूंढते हुवे यहाँ पर आये तब साथ में उन्होंने उद्धव को श्रीमद भगवत गीता का ज्ञान दिया था और गीता का प्रचार किया था।

उपदेश देते समय श्री कृष्ण यहाँ के एक पीपल के पेड़ के निचे बैठे थे।

आज भी वो पीपल का पेड़ यहाँ पर है और उसका एक विशेष महत्त्व है।

सिर्फ एक समय के लिए प्राची तीर्थ में झुकने से मिलने वाले लाभ 100 बार के लिए काशी में झुककर प्राप्त होने वाले आशीर्वाद के बराबर हैं।

अगर आप काशी में 100 बार दर्शन करो और जो पुण्य मिलता है उतना पुण्य सिर्फ 1 बार यहाँ प्राची में दर्शन करने से मिलता है।

इस लिए ही एक वाक्य बहुत ही प्रचलित है की 100 बार काशी 1 बार प्राची।

सोमनाथ मंदिर से दिन में दो बार सोमनाथ दर्शन के लिए बस चलती है।

जो सोमनाथ के सारे दर्शनीय स्थलों के साथ साथ यहाँ प्राची भी आती है।

इस लिए अगर आप सोमनाथ आये हो तो जरूर से यहाँ जरूर से प्राची आइये।

यह आर्टिकल मैंने अपने खुद के अनुभव और मेरे दोस्तों के अनुभव से लिखा हुवा है।

अगर आप सोमनाथ में देखने लायक जगहों के बारे में और भी ज्यादा जानकारी रखते हो तो यहाँ पर कमेंट बॉक्स में जरूर से शेयर कीजिये जिससे यहाँ पर घूमने आने वाले यात्रिको को और भी अच्छी जानकारी मिल सके जो हमारा इस आर्टिकल लिखने का मुख्य उदेश्य भी है।

अगर आप को यह आर्टिकल में दी गयी जानकरी उपयोगी लगी हो तो एक लाइक करना न भूलें और अपने दोस्तों में जरूर से शेयर कीजिये। और मेरी इस वेबसाइट को नोटिफिकेशन बेल दबाके जरूर से सब्सक्राइब कर लीजिये जिससे आगे आने वाले ऐसे और भी कई आर्टिकल का नोटिफिकेशन आप को मिल सके और मुझे और ज्यादा अच्छे आर्टिकल लिखने की प्रेरणा मिले।

Note : आर्टिकल में दी गयी टिकट की किंमत समय समय पर बदल सकती है। मैंने यहाँ मौजूदा किंमत दी है जिसे में समय समय पर अपडेट करता रहूँगा। फिरभी आप दी गयी किंमत को लगभग किंमत मान कर चलें।

आशा करता हूँ की आप को आर्टिकल में दी गई जानकारी यहाँ पर घूमने आने के समय जरूर से मदद करेगी। 

अपना कीमती समय इस आर्टिकल को देने के लिए आपका धन्यवाद।


dharmesh

My name is Dharmesh. I would like to travel different known as well as unknown places and same will be share with you in this website for make your journey more easy and enjoyable.

23 Comments

ปั้มไลค์ · July 6, 2020 at 5:08 pm

Like!! Thank you for publishing this awesome article.

car accident · October 1, 2020 at 1:43 am

I was able to find good info from your articles.

파라오카지노 · October 17, 2020 at 4:30 pm

Nice post. I learn something totally new and challenging on sites I stumbleupon on a daily
basis. It’s always exciting to read content from other writers and practice something from their sites.

더킹카지노 · October 20, 2020 at 1:33 am

Great blog! Do you have any recommendations for aspiring writers?
I’m planning to start my own website soon but I’m a little lost on everything.
Would you propose starting with a free platform like WordPress or go for a paid option? There are so many options out there that I’m completely overwhelmed ..
Any suggestions? Bless you!

    dharmesh · October 20, 2020 at 6:39 am

    thanks for replay.. My advice to you is to like paid options. Even if you are going to do the whole efforts in free web site,in future you will get a good rewards of your efforts in paid option. Meaning that you will get more benefit in paid options in Google ranking, adsense, website customization etc.

https://gumroad.com/sulannvlzp/p/the-anatomy-of-a-great-3d8024f8-5f68-4106-83b6-294af6095d9b · November 10, 2020 at 12:20 am

I think what you published was very logical.
However, what about this? what if you composed a catchier title?
I am not suggesting your information is not good., but
what if you added a title to maybe get folk’s attention? I mean Top 11 Places to
visit near somnath full information in hindi – travellgroup is kinda vanilla.
You might peek at Yahoo’s front page and watch how they create news titles to grab people to click.
You might add a video or a related picture or two to grab readers excited
about what you’ve got to say. In my opinion, it would bring your website a little livelier.

bailiruflc.nation2.com · November 10, 2020 at 12:23 am

I know this if off topic but I’m looking into starting my own weblog and was curious what all is required to get
setup? I’m assuming having a blog like yours would
cost a pretty penny? I’m not very internet smart so I’m not 100% positive.

Any recommendations or advice would be greatly appreciated.
Thank you

더킹카지노 · December 19, 2020 at 9:54 pm

Very good post. I certainly appreciate this site. Keep writing!

파라오카지노 · December 19, 2020 at 11:34 pm

I visit daily a few sites and blogs to read articles, except this weblog provides quality based posts.

파라오카지노 · December 20, 2020 at 1:44 am

Appreciation to my father who informed me regarding this weblog,
this web site is really awesome.

파라오카지노 · December 20, 2020 at 8:31 am

I appreciate, result in I discovered just what I was
having a look for. You have ended my four day long hunt!
God Bless you man. Have a great day. Bye

파라오카지노 · December 20, 2020 at 9:01 am

Thanks for sharing your thoughts on 더킹카지노. Regards

예스카지노 · December 20, 2020 at 11:41 am

Hi everyone, it’s my first go to see at this website, and paragraph is really fruitful
designed for me, keep up posting these types of articles.

예스카지노 · December 20, 2020 at 2:48 pm

Its like you read my mind! You seem to know so much about this, like
you wrote the book in it or something. I think that you could do with a few pics to drive the message home a bit, but instead of that, this is excellent blog.
A great read. I’ll definitely be back.

카지노사이트 · December 20, 2020 at 4:09 pm

all the time i used to read smaller content which also clear their motive, and that is also happening with
this post which I am reading here.

https://johnson319.ledpec.com/2020/12/07/slot-machines--2--/ · December 21, 2020 at 2:43 am

Appreciate this post. Will try it out.

curry 8 · December 22, 2020 at 4:53 am

you’ve an awesome blog right here! would you prefer to make some invite posts on my weblog?

off white shoes · December 24, 2020 at 5:42 am

This site is mostly a walk-through for all of the data you wanted about this and didn抰 know who to ask. Glimpse here, and also you抣l undoubtedly uncover it.

jordan shoes · December 28, 2020 at 8:30 am

Your place is valueble for me. Thanks!?

goyard handbags · December 30, 2020 at 8:19 am

It抯 hard to seek out knowledgeable individuals on this matter, but you sound like you recognize what you抮e talking about! Thanks

Gir National Park Information /Safari Booking/Timings/Fees - travellgroup · January 22, 2020 at 10:59 am

[…] ज्यादा पढ़ें : सोमनाथ ज्योतिर्लिंग  […]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Share
Translate »